कैंसर आज सबसे जानलेवा बीमारी है। ऐसा ही एक कैंसर है पेट का कैंसर, जिसे गैस्ट्रिक कैंसर (Stomach Cancer) भी कहा जाता है। वल्र्ड कैंसर रिसर्च फंड इंटरनेशनल के अनुसार गैस्ट्रिक या पेट के कैंसर से दुनियाभर में तकरीबन 9 लाख 52 हजार मामले सामने आते हैं। जिसमें से करीब 7 लाख 23 हजार लोगों की जान चली जाती है। पूूरी दुनिया में पेट के कैंसर से मरने वालों की दर 72 प्रतिषत आंकी गई है। भारत की बात करें तो हर वर्ष 62 हजार नए मामले सामने आते हैं। वहीं इस कैंसर से मरने वाली दर 80 प्रतिशत है-




पेट या गैस्ट्रिक कैंसर के सामान्य लक्षण (stomach cancer symptoms)-
पेट कैंसर सामान्यतौर पर धीरे धीरे विकसित होता है। इसको विकसित होने में कई साल लग जाते हैं। इसलिए इसके कोई स्पष्ट लक्षण नहीं होते है। फिर भी 
कुछ सामान्य लक्षण ऐसे होते है-

-पेट कैंसर के रोगियों को कम भूख लगती है। 
-पेट कैंसर की वजह से वजन कम हो जाता है। 
-सामान्यता पेट में दर्द महसूस होता है। 
-कई बार अपच और मितली आने लगती है। 
-खून की उल्टी या बिना खुन की उल्टी होना। 
-पेट में सूजन महसूस होता है। मल में रक्त आना।

ये प्रमुख कारण (stomach cancer reasons)-

पेट कैंसर के यू तो अलग अलग कारण होते हैं लेकिन कुछ प्रमुख कारण हम आपको बता रहे हैं-

धूम्रपान और शराब
शराब और धूम्रपान का सेवन करना पेट कैंसर को दावत देना है। जो लोग शराब और सिगरेट साथ में पीते हैं, ऐसे लोगों में पेट कैंसर होने की आशंका बढ़ जाती है।

मांसाहारी और मसालेदार भोजन
मांसाहारी और मसालेदार भोजन के सेवन से पेट की परत में सूजन हो सकती है। जो पेट कैंसर का कारण बन सकता है। ऐसे में यदि आपको ज्यादा मसालेदार भोजन करना पसंद है, तो अपनी इस आदत पर कंट्रोल करें।

आनुवांशिक कारण
पेट कैंसर के कुछ आनुवांषिक कारण भी हो सकते है। जैसे पेट का किसी तरह का आॅपरेषन हुआ हो, या फिर गैस्ट्राइटिस की लंबे समय तक प्राॅब्लम हो, या अन्य आनुवांशिक कारणों पेट का कैंसर हो सकता है।




असंतुलित खानपान
आधुनिक जीवन शैली के चलते भी पेट कैंसर की आशंका बढ़ जाती है। यदि आप फल, सब्जियां कम खाते है और डिब्बाबंद भोजन खाते है तो पेट कैंसर की संभावना रहती है। ज्यादा फास्ट फूड भी इसकी आशंका को बढ़ाता है।

पर्निशियस रक्ताल्पता
विटामिन बी 12 के आंतरिक घटक की कमी के कारण पर्निशियस रक्ताल्पता होती है। जो कैंसर का कारण बन सकता है।

कसरत की कमी
हैल्दी रहने के लिए व्यायाम बेहद जरूरी है। कई बार अनियमित दिनचर्या के कारण वर्जिष का समय नहीं मिल पाता। कसरत न करने की ये आदत पेट कैंसर का षिकार बना सकती है।

उम्र
पेट कैंसर की बढ़ती उम्र के साथ संभावना बढ़ जाती है। जिन लोगों की उम्र 60 वर्ष या इससे अधिक होती है, इसकी संभावना बढ़ सकती है। ऐसे में 60 पार के लोगों को नियमित जांच कराते रहना चाहिए।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *